अपनेपन का एहसास हिंदी कहानी – Hindi Story of feelings

Share this:

दोस्तों, रामायण कथा का एक अंश, जिससे हमे सीख मिलती है “अपनेपन के एहसास” की।

भगवान श्री राम, भ्राता लक्ष्मण एवं सीता मैया चित्रकूट पर्वत की ओर जा रहे थे, राह बहुत पथरीली और कांटीली थी । अचानक से श्री राम के चरणों मे कांटा चुभ गया।

श्रीराम रूष्ट या क्रोधित नहीं हुए, बल्कि हाथ जोड़कर धरती माता से अनुरोध करने लगे। बोले- “माँ, मेरी एक विनम्र प्रार्थना है आपसे, क्या आप स्वीकार करेंगी ?”

धरती बोली- “प्रभु प्रार्थना नहीं, आज्ञा दीजिए।”

प्रभु बोले, “माँ, मेरी बस यही विनती है कि जब भरत मेरी खोज मे इस पथ से गुज़रे, तो आप नरम हो जाना। कुछ पल के लिए अपने आँचल के ये पत्थर और कांटे छूपा लेना। मुझे कांटा चुभा सो चुभा, पर मेरे भरत के पाँव मे अघात मत करना”

श्री राम को यूँ व्यग्र देखकर धरा दंग रह गई। पूछा- “भगवन, धृष्टता क्षमा हो। पर क्या भरत आपसे अधिक सुकूमार है ? जब आप इतनी सहजता से सब सहन कर गए, तो क्या कूमार भरत सहन नही कर पाँएगें ?
फिर उनको लेकर आपके चित मे ऐसी व्याकूलता क्यों ?”

श्री राम बोले- “नहीं…नहीं माते, आप मेरे कहने का अभिप्राय नही समझीं । भरत को यदि कांटा चुभा, तो वह उसके पाँव को नही, उसके हृदय को विदीर्ण कर देगा।”

You may also like

“हृदय विदीर्ण ।। ऐसा क्यों प्रभु ?” धरती माँ जिज्ञासा भरे स्वर में बोलीं।

“अपनी पीड़ा से नहीं माँ, बल्कि यह सोचकर कि इसी कंटीली राह से मेरे भैया राम गुज़रे होंगे और ये शूल उनके पगों मे भी चुभे होंगे। मैया, मेरा भरत कल्पना मे भी मेरी पीड़ा सहन नहीं कर सकता, इसलिए उसकी उपस्थिति मे आप कमल पंखुड़ियों सी कोमल बन जाना..।।”

अपने भाई के लिए इतना प्यार देखा कर और भगवान श्री राम के इन भाग गर्वित कर देने वाले वचनों को सुनकर धरती माँ श्री राम का भजन करने लगी और उन्होंने उनका अनुरोध मान लिया।

दोस्तों, रिश्ते अंदरूनी एहसास, आत्मीय अनुभूति के दम पर ही टिकते हैं। जहाँ गहरी आत्मीयता नही, वो रिश्ता शायद नही परंतू दिखावा हो सकता है। इसीलिए कहा गया है कि रिश्ते खून से नहीं, परिवार से नही,
मित्रता से नही, व्यवहार से नही, बल्कि…सिर्फ और सिर्फ आत्मीय “एहसास” से ही बनते और निर्वहन किए जाते हैं । जहाँ एहसास ही नहीं, आत्मीयता ही नहीं वहाँ अपनापन कहाँ से आएगा ?

परमात्मा का प्यार हम सब आत्माओं के लिये ऐसा ही गहरा एहसास भरा है ।
परमात्मा को बस दिल से याद तो करो तो इस आत्मीय स्नेह को अनुभव करोगे।

विशेष निवेदन :- दोस्तो Post कैसी लगी हमें जरूर बताये, अगर पसंद आए तो हमेशा ऐसे ही पोस्ट के लिए हमारे ब्लॉग पर आयें।
 
धन्यवाद,
आपका सादर आभार
Apni Kahaani Team

हिंदी की अन्य बेहतरीन कहानियाँ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

See More:

  • पिता का सच्चा प्यार – Heart Touching Short Hindi Storyपिता का सच्चा प्यार – Heart Touching Short Hindi Story दोस्तों, एक दिन एक 11 साल की लड़की ने अपने पिता से पुछा, “आप मेरे 15 वे जन्मदिन पर मुझे क्या देने वाले हो?उस लड़की के पिता ने जवाब दिया, “बेटी, अभी तो बहुत समय बाकी है.”जब वह लड़की 14 साल […]
  • हीरे की असलियत और उसका दुःख – Hindi Story of a diamond and its valueहीरे की असलियत और उसका दुःख – Hindi Story of a diamond and its value   दोस्तों, एक राजमहल में कामवाली और उसका बेटा काम करते थे। एक दिन राजमहल में कामवाली के बेटे को एक हीरा मिलता है। वो माँ को बताता है। कामवाली होशियारी से वो हीरा बाहर फेककर कहती […]
  • दिलों की दूरी – Heart Distanceदिलों की दूरी – Heart Distance Picture Courtesy एक सन्यासी अपने शिष्यों के साथ गंगा नदी के तट पर नहाने पहुंचा. वहां एक ही परिवार के कुछ लोग अचानक आपस में बात करते-करते एक दूसरे पर बहुत क्रोधित हो उठे और […]
  • हनुमान जी के मंगलवार व्रत की कथा : Shri Hanuman Tuesday Vrat Story एक ब्राह्मण दम्पत्ति की कोई सन्तान नहीं थी, जिसके कारण दोनों पति-पत्नी काफी दुःखी रहते थे. काफी सोच विचार के बाद वो ब्राह्मण हनुमान जी की पूजा […]

Leave a Reply