गायत्री-मन्त्र से रोग-ग्रह-शान्ति – Gayatri Mantra Benefits in Hindi

Share this:
Gayatri Mantra benefits

दोस्तों, गायत्री मन्त्र को मन्त्र राज कहा जाता है, जिसे सर्वप्रथम भारत के महान ऋषि विश्वामित्र ने ब्रह्माण्ड से प्राप्त किया और इसे सिद्ध कर, इसकी पूर्ण उपासना विधि निर्मित की। गायत्री को निर्गुण मन्त्र भी कहा जाता है, और इसी मंत्र के बल पर ऋषि विश्वामित्र एक अलग विश्व बनाने में सक्षम हो सके। वैसे तो लगभा हर आर्य/हिन्दू, गायत्री मंत्र की शक्ति और लाभ से परचित है तथा इसे बड़े बड़े ऋषि मुनि भी अपने जीवन में उतरने का प्रयास करते रहते है। आज हम गायत्री मंत्र के रोग-नाश गुण, प्रयोग जानने का प्रयास करेंगे, तो आइये जानते है गायत्री मंत्र से रोग, ग्रह शांति के उपाय।
गायत्री-मन्त्र से रोग-ग्रह-शान्ति – Gayatri Mantra Se Rog, Grah Shanti :

गायत्री मंत्र का हिंदी अर्थ जानने के लिए यहां क्लिक करें।

For Discounted Online Shopping on Flipkart Click Here!

1. क्रूर से क्रूर ग्रह-शान्ति में, शमी-वृक्ष की लकड़ी के छोटे-छोटे टुकड़े कर,गूलर-पाकर-पीपर-बरगद की समिधा के साथ ‘गायत्री-मन्त्र से 108 आहुतियाँ देने से शान्ति मिलती है।

2. महान प्राण-संकट में कण्ठ-भर या जाँघ-भर जल में खड़े होकर नित्य 108 बार गायत्री मन्त्र जपने से प्राण-रक्षा होती है।

3. शनिवार को पीपल के वृक्ष के नीचे गायत्री मन्त्र जपने से सभी प्रकार की ग्रह-बाधा से रक्षा होती है।

4. ‘गुरुचि’ के छोटे-छोटे टुकड़े कर गो-दुग्ध में डुबोकर नित्य १०८ बार गायत्री मन्त्र पढ़कर हवन करने से ‘मृत्यु-योग’ का निवारण होता है।

5. गायत्री मंत्र के हवं को मृत्युंजय हवन भी कहते है।

6. आम के पत्तों को गो-दुग्ध में डुबोकर ‘हवन’ करने से सभी प्रकार के ज्वर में लाभ होता है।

7. मीठा वच, गो-दुग्ध में मिलाकर हवन करने से ‘राज-रोग’ नष्ट होता है।

8. शंख-पुष्पी के पुष्पों से हवन करने से कुष्ठ-रोग का निवारण होता है।

9. गूलर की लकड़ी और फल से नित्य१०८ बार हवन करने से ‘उन्माद-रोग’ का निवारण होता है।

10. ईख के रस में मधु मिलाकर हवन करने से ‘मधुमेह-रोग’में लाभ होता है।

11. गाय के दही, दूध व घी से हवन करने से ‘बवासीर-रोग’ में लाभ होता है।

12. बेंत की लकड़ी से हवन करने से विद्युत्पात और राष्ट्र-विप्लव की बाधाएँ दूर होती हैं।

13. कुछ दिन नित्य 108 बार गायत्री मन्त्र जपने के बाद जिस तरफ मिट्टी का ढेला फेंका जाएगा, उस तरफ से शत्रु, वायु, अग्नि-दोष दूर हो जाएगा।

14. दुःखी होकर, आर्त्त भाव से मन्त्र जप कर कुशा पर फूँक मार कर शरीर का स्पर्श करने से सभी प्रकार के रोग, विष, भूत-भय नष्ट हो जाते हैं।

15. 108 बार गायत्री मन्त्र का जप कर जल का फूँक लगाने से भूतादि-दोष दूर होता है।

16. गायत्री जपते हुए फूल का हवन करने से सर्व-सुख-प्राप्ति होती है।

17. लाल कमल या चमेली फुल एवं शालि चावल से हवन करने से लक्ष्मी-प्राप्ति होती है।

18. बिल्व-पुष्प, फल, घी, खीर की हवन-सामग्री बनाकर बेल के छोटे-छोटे टुकड़े कर, बिल्व की लकड़ी से हवन करने से भी लक्ष्मी-प्राप्ति होती है।

19. शमी की लकड़ी में गो-घृत, जौ, गो-दुग्ध मिलाकर 108 बार एक सप्ताह तक हवन करने से अकाल-मृत्यु योग दूर होता है।

20. दूध-मधु-गाय के घी से 7 दिन तक 108 बार हवन करने से अकाल-मृत्यु योग दूर होता है।

21. बरगद की समिधा में बरगद की हरी टहनी पर गो-घृत, गो-दुग्ध से बनी खीर रखकर 7 दिन तक 108 बार हवन करने से अकाल-मृत्यु योग दूर होता है।

22. दिन-रात उपवास करते गुए गायत्री मन्त्र जप से यम पाश से मुक्ति मिलती है।

23. मदार की लकड़ी में मदार का कोमल पत्र व गो-घृत मिलाकर हवन करने से विजय-प्राप्ति होती है।

24. अपामार्ग, गाय का घी मिलाकर हवन करने से दमा रोग का निवारण होता है।

विशेष- प्रयोग करने से पहले कुछ दिन नित्य 1008 या 108 बार गायत्री मन्त्र का जप व हवन करना चाहिए।

हिंदी की कहानियों का संग्रह पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

बच्चों की रोचक कहानियाँ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

Share this:

Leave a Reply