मृत्य के बाद का अनुभव – Experience After Death

Share this:
Death Experience in Hindi

दोस्तों, जिसने भी इस धरती पर किसी भी रूप में जन्म लिया है, उसे एक न एक दिन इस शरीर को छोड़ कर मृत्यु को गले लगाना ही है, यह इस संसार का शाश्वत सत्य है। हम सभी कभी न कभी यह जरूर सोचते होंगे की आखिर मृत्यु के बाद होता क्या है। खैर, अभी तक इस प्रश्न का उत्तर किसी को नहीं मिला है, हाँ यह जरूर है की पूरी दुनिया के वैज्ञानिक अपने अपने स्तर पर इसका जवाब खोजने में लगे हुए हैं, और थोड़ी सी ही सही लेकिन कुछ जानकारी जरूर हमें प्राप्त हुयी है।

एक सबसे बड़े medical studies में वैज्ञानिकों ने मौत से नजदीकी अनुभव (Near-death Experiences) और शरीर के बाहर का अनुभव (Out-of-body Experiences) होने की खोज की है, जिसमे उन्होंने साबित किया हैं की इन्सान के मृत्यु के बाद उसका दिमाग पूरी तरह बंद हो जाता है लेकिन तब भी उसके अन्दर की चेतना (Consciousness) और जागृतता (Awareness) जारी रहती है।  वैज्ञानिकों ने 4 साल तक 2000 जितने लोगो की जांच की है और उन्होंने देखा की इनमे से 40% लोग ऐसे थे जो मर चुके थे और थोड़े समय के बाद इनका दिल फिर से धडकने लगा था। इस जीवन और मृत्यु के समय के दौरान लोगों ने किसी तरह की जागृतता (Awareness) अनुभव करने का वर्णन किया है।

कई लोगों ने मृत्यु के बाद अपने शरीर को पूरी तरह से छोड़ने के बाद खुद के ही शरीर को Room के किसी एक corner से देख सकने का का अनुभव किया। उन्होंने अनुभव किया की वे room में उनके शरीर से थोड़ी ऊंचाई पर स्थित हैं और doctors उनका ईलाज कर रहे हैं। वे लोग अपने आप को देख सकते थे। इलाज के वक्त कुछ लोगों ने 3-5 मिनट तक मर चुके होने के बावजूद उस वक्त के दौरान उस room में होती हुई प्रत्येक activities का वर्णन किया। उसमें उन्होंने Nursing staffs के लोगों के काम का वर्णन किया और machines की आवाजें सुनी। ज्यादातर मामले में दिल धडकना बंद हो जाने के बाद 20-30 सेकंड के अंदर दिमाग काम करना बंद कर देता है, लेकिन इन मामलों में दिल धडकना बंद हो जाने के 3-5 मिनिट तक वहाँ पर शरीर में जागृतता (Awareness) मौजूद थी।

Life After Death in Hindi

कुछ लोगों ने असामान्य रूप से शांति की भावना का अनुभव किया तो कुछ लोगों ने समय बहुत धीरे से चलने का या बहुत ही तेजी से चलने का अनुभव किया। कुछ लोगों ने सूरज के जैसी सुनहरे रंग की बहुत चमकदार रोशनी को देखने की बात कही तो कुछ लोगों ने किसी अनजान डर का अनुभव किया और कुछ लोगों ने खुद को गहरे पानी में डूबने का या गहराई में घसीटे जाने का अनुभव किया। कुछ लोगों को चमकदार रौशनी की tunnel दिखती हैं जिसमे वे light की ओर तेजी से जाने लगते हैं।

69% मामलों में लोग अपने आसपास एक असामान्य प्यार की मौजूदगी होने का अनुभव करते हैं, वहाँ पर उन्हें कुछ इन्सान के आकार के रोशनी से भरपूर कुछ प्राणी दिखते हैं, कईयों का मानना है की यह प्राणी उनके मरे हुए प्रियजन थे। कुछ लोग ऐसी जगह पर पहुँच जाते हैं जहाँ पर उन्हें बहुत सारा प्यार और ख़ुशी महसूस होती है। उन्हें पृथ्वी के जीवन से यहाँ का जीवन ज्यादा असली लगता है। उनको लगता है की मानव शरीर वाला जीवन एक सपना था लेकिन यह सच्चाई है। कुछ लोग भगवान से मिलकर वापस आने की बात करते हैं। कुछ लोगो का कहना है की उनको दिखनेवाले रोशनीवाले प्राणी उनसे कहा है की तुम्हारा अभी यहाँ पर आने का वक़्त नहीं हुआ है, तुम्हे अभी बहुत काम करने बाकी है इसलिए तुम्हे वापस जाना पड़ेगा। कुछ लोग भविष्य की झलक देखने का दावा करते हैं तो कुछ लोग असीमित ज्ञान प्राप्त कर लेने का दावा करते हैं।

वैसे वैज्ञानिक अभी इस विषय पर पूरी तरह से सही निष्कष तक नहीं पहुँच पाए हैं। कुछ वैज्ञानिकों का दावा हैं की ऐसे अनुभव लोगों के भ्रम भी हो सकते हैं या फिर दिमाग के अन्दर होती कोई chemical reactions का परिणाम हो सकते हैं, लेकिन मौत से नजदीकी अनुभव (Near-death Experiences) करने वाले लोगों ने जो देखा उस पर पूरा भरोसा रखते हैं। खैर, सच्चाई चाहे जो भी हो लेकिन science एक न एक दिन इस विषय पर से पर्दा जरुर उठाएगा।

Share this:

Comments(4)

  1. August 7, 2016
    • August 27, 2016
  2. August 25, 2017
  3. September 30, 2017

Leave a Reply to Vipin Cancel reply