समय क्या है? – What is the time?

Share this:
apnikahaani.blogspot.comदोस्तों और मेरे आदरणीय पाठकों, समय एक वास्तविक घटना हैं जिसकी वजह से हमेशा परिवर्तन की प्रक्रिया चलती रहती हैं। समय गति की वजह से ही स्पष्ट होता हैं। रात-दिन,बदलते मौसम,खगोलीय पिंडों की आवाजाही यह सभी निरंतर परिवर्तन के सूचक हैं। उम्र बढ़ने की प्रक्रिया भी समय का ही एक हिस्सा हैं। हमारे मन में समय के बारे में ज्यादातर यही सवाल उठते हैं की आखिर यह समय हैं क्या ? क्यों यह हमेशा चलता ही रहता हैं ? इसकी शुरुआत कैसे हुई ? क्या इसका कोई अंत होगा ?

समय का एक महत्वपूर्ण पहलू हैं परमाणु स्तर पर अणुओं की गति की उपस्थिति। जैसे की फोटॉन्स की परमाणु स्तर पर गतिविधि। ब्रह्माण्ड की किसी भी चीज या ताकत में समय की उपस्थिति तो होती ही हैं। ज्यादातर हम समय को तिन रूपों से जानते हैं : भूतकाल,वर्तमान और भविष्य।

समय की सबसे अधिक वास्तविकता हम अभी के समय में देखते हैं। जिसे हम वर्तमान भी कहते हैं। लेकिन हम वर्तमान में कोई चीज़ देखने या अनुभव करने से पहले ही वह भूतकाल हो जाती हैं। वर्तमान एक छोटा सा पल हैं जो हर जगह हो रहा हैं। वह भूतकाल से लेकर भविष्य की समयरेखा पर एक छोटे से बिंदु के समान हैं। जो भूतकाल से आगे बढ़कर भविष्य की तरफ बढ़ता चला जा रहा हैं। हमारे दिमाग में वर्तमान की स्मृतियां भूतकाल के स्वरुप में स्टोर होती जाती हैं। लेकिन इसके लिए हमारा पूरी तरह से जागृत अवस्था में होना अनिवार्य हैं।

apnikahaani.blogspot.com

वर्तमान को छोड़ कर हम भूतकाल और भविष्य को माप सकते हैं। जैसे की कोई एतिहासिक घटना या कोई शादी के फंक्शन को आप किसी रिकॉर्डिंग यन्त्र से संग्रह कर सकते हैं। इस तरह भविष्य एक बिना रिकॉर्ड की गयी टेप की तरह हैं और भूतकाल रिकॉर्ड की हुई टेप हैं। भविष्य हमारे दिमाग में संग्रहित भूतकाल के अनुभवों की वजह से बनी हुई छबि की तरह प्रतीत होता हैं।

लेकिन केवल गति से समय को समजना पर्याप्त नहीं हैं। बल भी समय का हिस्सा बनते हैं। समय को एक तीर के रूप में समजाया जा सकता हैं अगर हम समय को बलों और गति की उपस्थिति के रूप में सोचे। समय की अनुभूति भूतकाल,वर्तमान और भविष्य के रूप में हमारे लिए एक भ्रम पैदा करती हैं। समय का सटीक अनुभव हमें तब तक नहीं हो सकता जब तक उसे भूतकाल या भविष्य से मापा न जाए।

apnikahaani.blogspot.com

समय एक BLOCK UNIVERSE के रूप में :

Albert Einstein कहते थे की “हमारे जैसे लोग जो भौतिकी में विश्वास करते हैं उनके लिए वर्तमान,भूतकाल और भविष्य सिर्फ एक भ्रम हैं।” Block Universe में वर्तमान,भूतकाल और भविष्य एकसाथ अलग अलग आयामो में पहले से मौजूद हैं।

इस हिसाब से अगर समय को सोंचे तो डायनोसोर अभी जिन्दा हैं और भविष्य में पृथ्वी का सर्वनाश भी हो गया हैं। यह द्रश्य समय के चौथे आयाम में स्थित हैं जो Albert Einstein की General Relativity (GR) पर आधारित हैं। Block Universe के हिसाब मैं भूतकाल और भविष्य पहले से ही वहाँ पर मौजूद हैं। यहाँ तक की समय की छोटी सी अवधि  में Block Universe की सभी चीजों की अनगिनत संख्या होनी चाहिए।Block Universe हमें कुछ समस्याओं और विरोधाभास की ओर ले जाता है। हम ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति को किस तरह समझें क्योकि वह तो हमेशा से वहां पर मौजूद था। अगर वहाँ पर Big Bang हुआ था तो वह अभी भी मौजूद हैं।अगर समय और अन्तरिक्ष पहले से ही मौजूद हैं तो वह क्या हैं जिसने उन्हें गति दी? कैसे हमारी चेतना समय को पार कर लेती हैं ? वह क्या हैं जो ब्रह्माण्ड की सभी चीजों को गति देता हैं ? इन चीजों का हमारे पास अभी कोई भी जवाब नहीं हैं।

अधिकांश Cosmologists मानते हैं की 13 अरब साल पहले Big Bang की घटना होने पर ब्रह्माण्ड का जन्म हुआ। हम सब उस फैलते हुए ब्रह्माण्ड में जी रहे हैं जिसमें सभी तारे और आकाशगंगाए एक दुसरे से दूर जा रही हैं। हम कह सकते हैं की बिग बैंग एक क्षण में पैदा हुआ और भविष्य में अनंत काल तक चला जा रहा हैं। ब्रह्माण्ड का अनंत भविष्य उसके जन्म के साथ Big Bang के दौरान ही शुरू हुआ था।

समय हमें इस घटना को समझने में बहुत ही कठिनाई पैदा कर रहा हैं। हम समय में डूबते जा रहे हैं लेकिन समय के बारे में हम कुछ भी अच्छी तरह से समझ नहीं पा रहे हैं। समय एक ऐसी चीज़ हो सकती हैं जो हमारी सोचने की शक्ति से भी परे हो या वह एक भ्रम भी हो सकता हैं। किन्तु भविष्य में हम इंसान समय का राज़ भी एक दिन खोल ही देंगे।

साभार : http://universeinhindi.blogspot.in/

मित्रों, अपने बहुमूल्य विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से दें! धन्यवाद्! हमारे अन्य हजारों पाठकों की तरह, आप भी हमारे Free Email Newsletter का Subscription ले सकते हैं! यदि आप हमारे ब्लॉग पर दिए हुए जानकारी से संतुष्ट हैं तो आप हमें Facebook पर Like कर सकते हैं और Twitter पर Follow भी कर सकते हैं!

Share this:

Comments(4)

  1. July 22, 2016
  2. August 11, 2016
  3. June 5, 2017
  4. August 2, 2017

Leave a Reply to sachin salunke Cancel reply