क्या भूत सच में होते हैं ? – Do Ghosts Exist

Share this:
apnikahaani.blogspot.com
दोस्तों और मेरे आदरणीय पाठकों, अगर आप भूतों में विश्वास करते हैं तो आप अकेले नहीं हैं। दुनियाभर की तमाम संस्कृतियों के लोग भूतप्रेत जैसी चीजों में विश्वास रखते हैं। दुनिया भर में भूतों के विषय पर सेकड़ो सिध्धांत मौजूद हैं। लोगो को कई तरह के भूत दीखते हैं या भूतिया किसम के अनुभव होते हैं। विज्ञान भी आज तक भूतों के बारे में ठीक से जवाब नहीं दे पाया हैं। तो भूत आखिर होते क्या हैं?

पारंपरिक द्रष्टिकोण से देखे तो भूत मरे हुए इन्सान का आत्मा हैं जो किसी कारण से उसके वर्तमान में फ़स गया हैं और वहाँ बाहर नहीं निकल पा रहा। भूतों में विश्वास करनेवालों का मानना हैं की यह आत्मा नहीं जानती की उसका शरीर मर चूका हैं। मतलब भूत एक इन्सान हैं जो मर चूका हैं। हम सब अपने शरीर के अन्दर की आत्माएं हैं। हमारी मौत के बाद हमारा आत्मा दूसरे आयाम में जाता हैं। किसी तह की चोट आने पर होने वाली मौत के दौरान आत्मा हमारी भौतिक दुनिया में फ़स जाता हैं जिसे उसके अगले आयाम में जाने की जरूरत होती हैं। इस प्रकार के भूत एक किसम के कैदखाने में रहते हैं जिसमे शामिल हैं उनके मौत की जगह या फिर वह जगह जहाँ उसकी जिंदगी में उसे चैन मिलता था। इन जगहों पर वह भटकते रहते हैं।

इस प्रकार के भूत हमारी भौतिक जिंदगी में भी दखल दे सकते हैं। इन भूतों को उनकी जिंदगी की घटानाए याद होती हैं और ऐसी ही कोई घटना उसके इलाके के आसपास होती हैं तो वह उसकी तरफ आकर्षित होते हैं। कुछ लोगों का मानना हैं की वे आत्माओं के साथ Communicate कर सकते हैं। ऐसी लोग आत्माओं को यह जानने में मदद करते हैं की वे मर चुके हैं और उन्हें उनके अस्तित्व में आगे के आयाम में जाना हैं।

apnikahaani.blogspot.com

दुनियाभर के लोगो के अनुभवो मुताबिक 2 प्रकार के भूत होते हैं :

दूत : इस तरह के भूत बहुत ही आम हैं। ज्यादातर ऐसे भूत उन के परिवारजनों या करीबियों को मर जाने के बाद दीखते हैं। उनको उनकी मौत के बारे में पता होता हैं और वे बातचीत कर सकते हैं। ऐसे भूत अपने प्रियजनों के लिए सन्देश लाते हैं की वे जहाँ कही भी हैं आराम से हैं और खुश हैं,उनको उसकी मौत पर शोक नहीं करना चाहिए। यह ज्यादातर केवल एक ही बार दिखाई देते हैं अपने इरादे से ऐसा करते हैं।

परेशान करनेवाले भूत : इस तरह के भूतों से लोग सबसे ज्यादा डरते हैं क्योंकि ऐसे भूत हमारे भौतिक जीवन पर सबसे ज्यादा असर डालते हैं। इन भूतों को अस्पष्टिकृत और डरावने आवाज, दीवार की पिटाई,पैरों की आवाज जैसी अनेक चीजों का कारण माना जाता हैं। वह हमारी चीज़े रख लेते हैं और छुपा देते हैं केवल उन्हें वापस देने के लिए। वे घर के नल चालू कर देते हैं,दरवाजो को जोर से टक्कर माँरते हैं या खोल के बंद करते हैं,घर की lights को चालू – बंद करते हैं और यहाँ तक की Toilets को flush करते हैं। चीजों को घर में इधर उधर फैंक देते हैं। लोगो के कपड़े खींचने के किस्से सबसे ज्यादा प्रचलित हैं।

कुछ भूत ऐसे होते हैं जो उनके मनुष्य शरीर के अनुरूप शरीर को ढूंढकर उसके प्रवेश कर लेते हैं और उसके शरीर पर कब्ज़ा कर लेते हैं। लोगो का मानना हैं की ऐसे भूत उसके जीवन काल के दौरान अधूरी रही इच्छाओं को दूसरे शरीर में घुस कर पूरी करता हैं। इनमें से प्रचलित किस्से हैं उसके विरोधियों को परेशान करना और डराना । कई बार जिस के शरीर में  घुसा हो उसको भी उसको भी नुकसान पहुंचाता हैं।

Ghost Hunters के हिसाब से भूतों के बारे मे कुछ अनकहे तथ्य :

  1. आत्मा जो भटक रही हैं और हमे डराना चाहती हैं वह हमारा ध्यान चाहती हैं। 
  2. भूतों और आत्माओं को समय की कुछ भी समज नहीं होती। 
  3. आत्माएं हमेशां यह नहीं समज पाती की उसका शरीर मर चूका हैं। उनके लिए यह एक डरावना सपना हैं जिसमे वे फ़स चुके हैं। 
  4. आत्माएं कई तरीको से हमारे साथ संपर्क कर सकती हैं। सपने,विचार,लिखावट,etc।
  5. आत्माएं कभी कभी शरारती और हमेशा उत्सुक होती हैं।
  6. आत्माएं रात में अधिक सक्रीय होती हैं। 
  7. आत्माएं कई बार प्रकट होती हैं। हवा में लहराती हुई सफ़ेद छाया के रूप में,काले साये के रूप में,ठंडी हवा के रूप में आत्मा की उपस्थिति स्पष्ट की जा सकती हैं। 
  8. भूतिया गतिविधियाँ बच्चों और वयस्कों के आसपास ज्यादा होती हैं। आपकी ज्यादा व्यक्तिगत उर्जा भूतों को ज्यादा आकर्षित करती हैं। 
  9. आत्माओं के अन्दर उनका व्यक्तित्व बरक़रार रहता हैं। 
  10. बच्चों और प्राणियों को भूत सबसे ज्यादा दिखते हैं। 
  11. आत्मा अक्सर सहायक हो सकता है।
  12. भूत confusion में पड जाते हैं की वे वे यहाँ पर क्यों हैं? उन्हें क्या हुआ हैं? इन्सान उन्हें सुन क्यों नहीं पा रहे हैं?
  13. भूत आपका दिमाग पढ़ सकते हैं। 
  14. भूत एक भौतिक शरीर नहीं है; वे शुद्ध ऊर्जा हैं।

apnikahaani.blogspot.com

भूतों के लिए संभावित वैज्ञानिक स्पष्टीकरण

भूत और Electrical Fields :

भूतिया जगहों पर शोधकर्ताओं ने सामान्य जगहों की तुलना से ज्यादा और असामान्य उतार-चढ़ाव वाला मजबूत चुम्बकीय क्षेत्र होने का दावा किया हैं। जो पृथ्वी के चुम्बकीय क्षेत्र से समन्धित बात हो सकती हैं। इन्सान के आसपास चुम्बकीय क्षेत्र ज्यादा होने से उसको उसके आसपास किसी चीज या इन्सान के होने का आभास होता हैं। यह चुम्बकीय क्षेत्र इन्सान के दिमाग पर भी असर डालता हैं।

तापमान :


ठन्डे स्थानों पर बनी हुई इमारतों पर भूतों का दिखना या अनुभव होना एक आम बात हैं। ज्यादातर लोग अचानक आये हुए ठंडी हवा के जोंके को भी भूत मान बैठते हैं और गभरा जाते हैं। ज्यादा तापमान में कम हवा का जोका अच्छी तरह से महसूस होता हैं। एक बार ऐसा हो जाए और सभी परिस्थिति अनुकूल हो तो बाकि का काम तो हमारा दिमाग ही कर देता हैं। 

कम आवृत्ति वाली ध्वनि तरंगे :


कुछ प्रयोगों में साबित हुआ की ऐसी भूतिया जगहों पर कम आवृत्ति वाली तरंगो का साम्राज्य होता हैं जिसे infra sound भी कहते हैं। infra sound भूतिया अनुभूतियो का कारण हो सकती हैं। इससे घबराहट और बेचैनी की भावना के साथ room या जगह पर किसी की मौजूदगी का अनुभव होता हैं। ऐसी तरंगो को इन्सान आसानी से नहीं सून सकते लेकिन जानवर सून लेते हैं। 

मेरी नजर में अगर लोग यह मानते हैं की उन्होने कोई भूत देखा हैं तो वह केवल उनके दिमाग में हैं। लोग भूत को देखते हैं क्योंकि वे भूत को देखना चाहते हैं। ज्यादातर तो लोगो का भ्रम ही भूत को जन्म देता हैं।लेकिन भूत का विषय आज भी एक रहस्य हैं।

साभार : http://universeinhindi.blogspot.in/

मित्रों, अपने बहुमूल्य विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से दें! धन्यवाद्! हमारे अन्य हजारों पाठकों की तरह, आप भी हमारे Free Email Newsletter का Subscription ले सकते हैं! यदि आप हमारे ब्लॉग पर दिए हुए जानकारी से संतुष्ट हैं तो आप हमें Facebook पर Like कर सकते हैं और Twitter पर Follow भी कर सकते हैं!

Share this:

Leave a Reply