गंजेपन से कैसे पाएं निजात – How to get rid of baldness

Share this:
दोस्तों और मेरे आदरणीय पाठकों, आज के इस भाग दौड़ भड़ी ज़िन्दगी में हम शारीरिक स्वास्थ्य का काफी नुकसान कर लेते हैं और उनमे से ही गंजेपन की भी समस्या है. आज के इस पोस्ट में हम गंजेपन से निजात पाने कि कुछ उपायों के बारे में जानेंगे। उम्मीद है, आप के लिए ये उपयोगी होगी।

गंजेपन को दूर करने के लिए आजकल market में कई advance technologies हैं। मोटे तौर पर इस पूरे process को hair restoration कहा जाता है। hair restoration के दो तरीके हैं। पहला surgical और दूसरा non-surgical। surgical के तहत आता है hair restoration और non-surgical के तहत hair weaving , bonding, silicon system और taping आते हैं। मशहुर actor सलमान खान ने frontal के लिए surgical तरीका अपनाया है और सिर के दूसरे हिस्सों के लिए non-surgical.

surgical method hair transplantation क्या है:

Hair transplantation एक ऐसा artistic और surgical method है, जिसकी मदद से सिर के पिछले व साइड वाले हिस्से से, दाढ़ी, छाती आदि से बालों को लेकर सिर के गंजे भाग में implant कर दिया जाता है। implant किए गए ये बाल permanent होते हैं। वजह यह कि सिर के पिछले और साइड वाले हिस्सों के बाल आमतौर पर नहीं झड़ते। implant होने के तकरीबन दो हफ्ते बाद ये उगने शुरू हो जाते हैं और एक साल के बाद इनमें full improvement नजर आने लगता है और natural बालों जैसे दिखने लगते हैं। इन बालों की खूबी यह है कि ये permanent होते हैं और जिंदगी भर रहते हैं, हालांकि कुछ case ऐसे भी देखे गए हैं, जिनमें ये बाल उम्र बढ़ने के साथ साथ खत्म हो जाते हैं। जिस area से बाल लिए जाते हैं, उसे donor area कहते हैं। बाल लेने के बाद वहां टांके लगा दिए जाते हैं। कुछ दिनों के बाद वह जगह सामान्य हो जाती है।

surgical method hair transplantation कैसे होता है? 

1. Strip Method : पहले मरीज को local anesthesia दिया जाता है। उसके बाद donor area से आधे इंच की एक strip निकाल ली जाती है और उसे सिर के उस भाग में implant कर दिया जाता है, जहां गंजापन है। आधे इंच की एक strip में आमतौर पर दो से ढाई हजार तक Follicles (बाल के रोंएँ) हो सकते हैं और एक Follicle में दो से तीन बालों की roots होती हैं। implant करने के बाद donor area में खुद घुल जाने वाले टांके लगा दिया जाते हैं। यह जगह कुछ दिनों बाद सामान्य हो जाती है। जिस area में बाल लगाए जाते हैं, उस पर एक रात के लिए पट्टियां लगा दी जाती हैं, जिन्हें अगले दिन clinic में जाकर patient हटवा सकता है या खुद भी हटा सकता है। जहां तक दर्द का सवाल है तो यह उतना ही होता है जितना injection (यहां सिर को सुन्न करने का) लगवाने में होता है। सिर का हिस्सा सुन्न हो जाने के कारण बाद में दर्द नहीं होता। 

2. SUE Method : Strip Method में जहां donor area से एक strip लेकर उसे implant किया जाता है, वहीं SUE method में एक-एक Follicle को लेकर implant किया जाता है। एक sitting में 6 से 8 घंटे का समय लग जाता है। इसमें 2000 तक Follicles insert कर दिए जाते हैं। Admit होने की जरूरत नहीं होती। अगर इससे भी गंजापन दूर नहीं होता है तो मरीज को दूसरी sitting के लिए बुलाया जा सकता है। दूसरी sitting छह महीने से एक साल के बाद होती है। 

surgical method hair transplantation का खर्च

SUE method में 120 से 150 रुपये प्रति Follicle का खर्च आता है। महंगा होने की वजह यह है कि इसमें doctor को ही सारा काम करना होता है। एक-एक root को निकालकर लगाना पड़ता है, जबकि strip method में काफी काम technicians भी कर देते हैं। Strip method में प्रति Follicle 60 से 65 रुपये का खर्च आता है। 

Hair Transplantation के बाद देखभाल

a) Hair Transplantation के बाद आनेवाले बाल बिल्कुल आपके natural बालों की तरह ही होते हैं। ये बिल्कुल वैसे ही grow करेंगे, जैसे natural बाल करते हैं। ऐसे में जैसे natural बालों की देखरेख होती है, ठीक वैसे ही इनकी भी होती है।
b) आप इन्हें कटा सकते हैं, shampoo कर सकते हैं, तेल लगा सकते हैं और comb भी कर सकते हैं।
इन बालों को आप color करा सकते हैं या फिर मनचाहा style भी दे सकते हैं। आप इनकी cutting भी करवा सकते हैं। कुछ दिनों बाद ये फिर से आ जाएंगे।
c) जो बाल transplant कराए गए हैं, वे ताउम्र बने रहते हैं, वे गिरते नहीं। हालांकि कुछेक मामलों में देखा गया है कि उम्र बढ़ने के साथ साथ ये बाल गिरने लगते हैं। 
d) बाल चूंकि naturally grow करते हैं इसलिए बालों का thin look ही रहता है। कई बार लोग surgical और non-surgical दोनों तरीकों को अपना लेते हैं।

डॉक्टर को बताएं अगर


a) Diabetes, Hyper tension, Metabolic disorders जैसी कोई chronic बीमारी हो
b) Body में अगर Pacemaker जैसा कोई electronic device हो
c) किसी खास drugs से allergy हो
d) अगर किसी खास बीमारी के लिए कोई दवाएं ले रहे हों

ये भी जान लें:

इसमें दिक्कत यह होती है कि आपके सिर के दूसरे हिस्सों के normal बाल पहले की रफ्तार से गिरते रह सकते हैं। ऐसे में transplant कराने के बाद भी लगातार कुछ खास दवाएं लेते रहने की जरूरत है, जिससे बाकी के बालों को गिरने से बचाया जा सके या उनके गिरने की रफ्तार को कम किया जा सके। Transplantation के बाद अगर बालों का गिरना जारी रहे तो मरीज के पास उस जगह पर दोबारा transplantation कराने का option है, लेकिन इसमें यह देखना होगा कि donor area पर उसके लायक बाल बचे भी हैं कि नहीं। donor area पर ज्यादा बाल न होने की हालत में दोबारा transplantation संभव नहीं हो पाता। अगर बाल हैं, तो करा सकते हैं। 

Non Surgical Methods : Hair Weaving, Bonding, Silicon System और Tapping

Hair Weaving:

Hair Weaving एक ऐसी Technic है, जिसके जरिए normal human hair या synthetic hair को सिर के उस भाग पर weave कर दिया जाता है, जहां गंजापन है। आमतौर पर hair cutting कराने के बाद जो बाल मिलते हैं, उन्हें hair manufacturer को बेच दिया जाता है। उसके बाद इन्हीं बालों को weaving के काम में use किया जाता है। ये थोड़े महंगे होते हैं, जबकि दूसरी तरफ synthetic hair,  normal hair के मुकाबले थोड़े सस्ते होते हैं। synthetic hair कई तरह के synthetic fiber के बने होते हैं। Bollywood में Akshay Khanna, Amitabh Bachchan, Sunny Deol और Suresh Oberoi ने hair weaving कराई है। 

Weaving कैसे होती है

जहां-जहां बाल नहीं हैं, वहां-वहां hair unit लगाई जाती है। इसके लिए सिर पर मौजूद तीन साइड के बालों की मदद से machine और धागे के जरिए एक base बनाते हैं। इस बेस के ऊपर hair unit को stitch कर दिया जाता है। इस पूरे process में दो घंटे लगते हैं और एक ही sitting में काम पूरा हो जाता है। डेढ़ महीने के बाद जब आपके original बाल grow होते हैं तो base ढीला हो जाता है जिसके चलते stitch की गई unit भी ढीली हो जाती हैं। इन्हें ठीक कराने के लिए expert के पास जाना पड़ता है। 

a) ये बाल semi-permanent होते हैं। हर 15 दिन के बाद इनकी servicing करानी पड़ती है। servicing के काम में दो घंटे का वक्त लग जाता है। 
b) जो लोग अच्छी तरह से maintain कर लेते हैं, उन्हें दो महीने बाद service की जरूरत होती है। 
देखभाल बिल्कुल natural बालों की तरह ही करनी है। oil use नहीं करना है। मोटे दांतों वाले कंघे का use किया जाता है। 
c) हर 15 दिनों के बाद होनेवाली सर्विस में 500 से 1500 रुपये तक का खर्च आ जाता है। 
d) इनकी लाइफ कम होती है। छह महीने से एक साल तक चल जाते हैं। हालांकि अच्छी देखभाल की जाए तो चार साल तक चल जाते हैं। एक बार बाल खराब हो जाने के बाद weaving का पूरा procedure दोहराना पड़ता है।
e) इसे procedure में कई patients को दर्द होता है और यह दर्द पूरे एक दिन रहता है, जिसे कम करने के लिए painkillers दिए जाते हैं। 

Bonding:


Bonding भी non-surgical method है। इसे clipping system कहा जाता है। इसमें hair unit के तीन साइड में clip लगाते हैं। यह clip unit के अंदर से लगाया जाता है। इस clip की मदद से unit को पहले से मौजूद बालों के साथ attach कर दिया जाता है। इन्हें दिन में लगा सकते हैं और रात को खोल कर रख सकते हैं, लेकिन यह आपकी सुविधा पर निर्भर है। ऐसा करना जरूरी नहीं है।

Service कराने की जरूरत नहीं होती। Hair cut करा सकते हैं, लेकिन hair dresser को यह पता होना चाहिए कि आपके original और नकली बाल कौन से हैं। उसी के हिसाब से उसे cutting करनी होगी। इस procedure में 1 घंटे का वक्त लगता है और इसमें दर्द नहीं होता। खराब हो जाने के बाद इसे दोबारा करा सकते हैं। 

Silicon System

अगर आप दर्द भी नहीं चाहते और bonding भी नहीं चाहते तो आप इस system को अपना सकते हैं। इसमें आसपास के original बालों को trim किया जाता है। इसके बाद उस पर glue (Silicon Gel) लगाते हैं और फिर hair unit को इस पर चिपका देते हैं।

यह एक से डेढ़ महीने तक fix रहता है उसके बाद ढीला होने लगता है। ऐसे में service कराने की जरूरत होती है। service में डेढ़ घंटा लगता है और इसकी फीस होती है 1000 से 1500 रुपये।

Taping


यह भी एक non surgical method है जिसमें hair unit का इस्तेमाल करते हैं। इस्तेमाल करने का तरीका अलग होता है।

इस procedure में एक tap का इस्तेमाल किया जाता है, जो दो तरफ से sticky होता है और transparent होता है। यह आम लोगों को नजर नहीं आता। दो sticky सिरों में से एक सिर में लगती है और दूसरी hair unit में। इसमें भी 15 दिनों बाद service की जरूरत पड़ती है। लेकिन इसमें फायदा यह है कि कुछ फीस देकर hair salon में ही सर्विस करने का तरीका सीखा जा सकता है और फिर हर 15 दिन बाद खुद ही सर्विस की जा सकती है। जो लोग देश से बाहर ज्यादा रहते हैं, उनके लिए यह तरीका मुनासिब है।

नोट : इन चारों तरीकों का खर्च weave किए जानेवाले बालों की quality पर निर्भर करता है, गंजेपन की स्थिति या method पर नहीं। बालों की quality के हिसाब से आमतौर पर इसका खर्च पांच हजार से 80 हजार रुपये के बीच आता है।

Wig

जिस तरह पहले wig यूज होती थी, उसी का advance version आज भी यूज होता है, लेकिन hair weaving और wig में बहुत फर्क है। hair weaving सिर्फ उस जगह की जाती है, जहां गंजापन है, जबकि wig को Forehead line से Ear line तक पूरा पहना जाता है, गंजापन भले ही कहीं पर भी हो। आजकल wig को लोग कम prefer करते हैं क्योंकि ये पहनने के यह काफी tight लगती है। 

Be Careful :


Hair Restoration के ऊपर बताए गए तरीकों से वैसे तो कोई खास और स्थायी side effects या नुकसान नहीं होता है, फिर भी कुछ patients को कई तरह की दिक्कतें आ सकती हैं। ये इस तरह हैं:

a) हेयर रेस्टोरेशन के बाद पहले से मौजूद original बाल कुछ वक्त के लिए thin हो सकते हैं। इस स्थिति को Shock loss या shading के नाम से जाना जाता है। कुछ समय बाद यह स्थिति खुद-ब-खुद ठीक हो जाती है।
b) सर सुन्न हो सकता है या उसमें ढीलापन आ सकता है। यह भी कुछ महीनों में अपने आप ही ठीक हो जाता है।
c) सिर में दर्द या खुजली की शिकायत हो सकती है।
d) infection की भी आशंका होती है, जिसे Antibiotics के जरिए कुछ ही समय में ठीक कर दिया जाता है।
e) कुछ दिनों के लिए आंखों और माथे पर सूजन आ सकती है।

साभार : एक Facebook मित्र


मित्रों, अपने बहुमूल्य विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से दें! धन्यवाद्! हमारे अन्य हजारों पाठकों की तरह, आप भी हमारे Free Email Newsletter का Subscription ले सकते हैं! यदि आप हमारे ब्लॉग पर दिए हुए जानकारी से संतुष्ट हैं तो आप हमें Facebook पर Like कर सकते हैं और Twitter पर Follow भी कर सकते हैं!

Share this:

Leave a Reply