टेलीकम्युनिकेशन में कॅरियर – Career in Telecommunication

Share this:
apnikahaani.blogspot.com

दोस्तों और मेरे आदरणीय पाठकों, आज Telecommunication का क्षेत्र दुनिया में तेजी से आगे बढ़ रहा है। यह क्षेत्र हमारे रोजमर्रा के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसकी मदद से ही हम दूर बैठे लोगों के संपर्क में रह पाते हैं। इस तकनीक की मदद से ही हम उन्हें देख और बातचीत कर पाने में सक्षम हो पाए हैं। सूचना व संचार के इस दौर में communication के बेहतर digital mediums जैसे mobile, internet और Satellite सेवाएं और विस्तृत हो रही हैं। नतीजतन इस तकनीक में पेशेवर और दक्ष लोगों की मांग भी बढ़ रही है, जो Telecom Industry को महत्वपूर्ण बना रहे हैं।

कार्य का स्वरूप

Digital और Wireless प्रसारण के दौर में Microelectronic उपकरण, Signal Processing, Data Networking, Coding, Encryption और Transmission में रुचि रखने वाले इस क्षेत्र में career बना सकते हैं। Telecommunication Engineer Line, Wireless और Radio communication से डील करते हैं। इनके द्वारा किए जाने वाले महत्वपूर्ण कार्यो में ग्राहक की मांग के अनुरूप Telecommunication के उपकरणों का निर्माण, रखरखाव, installation और समस्या का निवारण शामिल है। Network के रखरखाव, उत्पाद की गुणवत्ता और Telecom industry के लिए नए software develop करने की जिम्मेदारी इन्हीं की है। इन्हें Fiber Optics, Cellular Technology और Laser Technology का भी अच्छा ज्ञान होना चाहिए। 

विस्तृत विषय

विशेषज्ञता की दरकार रखने वाले इस क्षेत्र में योग्यता और प्रशिक्षण दोनों की आवश्यकता होती है। टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में अध्ययन व विकास, निर्माण, मरम्मत, sales, marketing और शिक्षण मुख्य हैं। इन विषयों से स्नातक विशेषज्ञ development, production, quality assurance, sales, servicing या software engineering बन सकते हैं।

शैक्षणिक योग्यता

Physics, Chemistry व Maths पर अच्छी पकड़ रखने वाले छात्र इसे career option के तौर पर अपना कर graduation या post-graduation कर सकते हैं। Telecommunication Engineer बनने के लिए graduate (BE/B-tech), Post-Graduation (ME/M-Tech) या Diploma होना आवश्यक है। रोजगार के और बेहतर विकल्प के लिए इसमें MBA भी किया जा सकता है।

कोर्स

चार वर्ष के BE/B-tech, दो वर्ष के ME/M-Tech के अलावा इस विषय में दो वर्ष का MBA और एक वर्ष का Diploma कोर्स भी मौजूद है। इसके अलावा तीन माह के certificate Course भी कुछ संस्थान करवा रहे हैं। Diploma कोर्स में छात्रों को Telecommunication के विभिन्न उपकरण जैसे Mobile Phone, Cable TV, Satellite, Computer Networking, Radar, Navigation वगैरह की जानकारी दी जाती है। इसके अलावा Mobile Telephony, GSM/CDMA Architecture, Internet Protocol Media System, CDMA, GPRS Network और Optical Network पर भी विशेष ध्यान दिया जाता है।

व्यक्तिगत कौशल

Telecommunication Engineer बनने के लिए व्यक्तिगत योग्यताओं में communication की कला, संगठनात्मक योग्यता, स्थिति का आकलन कर quick decisions लेने और समस्याओं को सुलझाने की समझ होनी चाहिए। टीम के साथ मिलकर कार्य करना, computer hardware व software की पूरी जानकारी होना भी आवश्यक है।

रोजगार के अवसर

इस उद्योग में आए boom से देश-विदेश में Telecom Engineer के लिए रोजगार के विकल्प बढ़ रहे हैं। Telecom Engineers Telephone, Telegraph, Radar, Radio, Tele Printer को सूचना माध्यमों के लिए और बेहतर व विकसित करने के लिए कार्य करते हैं। इस विधा में दक्ष लोगों के लिए टेलीकॉम इंडस्ट्री में कई मौके हैं, डिजाइन, निर्माण, रखरखाव, इंस्टॉलेशन और समस्या के निवारण में विशेषज्ञता रखने वालों के लिए MTNL, BSNL, Reliance, Vodafone, Airtel, MTS, Uninor, Idea और Nokia जैसी कंपनियों में काफी विकल्प मौजूद हैं। BSF, CRPF और Army में भी communication specialists की जरूरत होती है। 

Telecommunications में दो-तीन वर्ष का अनुभव प्राप्त करके शिक्षण की तरफ भी जाया जा सकता है। इस विषय में MBA करने के बाद Managerial Job भी एक विकल्प है। अगर Research व development में भागीदारी करना चाहते हैं तो इस दिशा में भी कदम बढ़ाए जा सकते हैं। इस क्षेत्र में नित नए अनुसंधान हो रहे हैं ताकि बदलते दौर के साथ कदमताल मिलाई जा सके। यह एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमें आपके लिए विदेशों में भी अपार संभावनाएं मौजूद हैं। 

पारिश्रमिक

Telecommunication Engineers का पारिश्रमिक उसके अनुभव, शैक्षणिक योग्यता और व्यक्तिगत योग्यता पर निर्भर करता है। यहां सरकारी संस्थाओं के मुकाबले निजी संस्थानों में बेहतर वेतन मिलता है। संस्थानों के अनुरूप स्नातकों के लिए 20 हजार रुपए से शुरुआत हो सकती है। कुछ वर्षों के अनुभव के बाद 50 हजार रुपए से अधिक वेतन हासिल किया जा सकता है।

कोर्स करवाने वाले प्रमुख संस्थान

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आईआईटी) के सभी केंद्र
राजस्थान विधापीठ यूनिवर्सिटी, उदयपुर
किंग्सटन पॉलीटेक्निक इंस्टीट्यूट, 24 परगनास, पश्चिम बंगाल
महाकौशल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजी. एंड टेक्नोलॉजी, बिलासपुर

साभार : एक Facebook मित्र

मित्रों, अपने बहुमूल्य विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से दें! धन्यवाद्! हमारे अन्य हजारों पाठकों की तरह, आप भी हमारे Free Email Newsletter का Subscription ले सकते हैं! यदि आप हमारे ब्लॉग पर दिए हुए जानकारी से संतुष्ट हैं तो आप हमें Facebook पर Like कर सकते हैं और Twitter पर Follow भी कर सकते हैं!

Share this:

Leave a Reply