सही निर्णय अपनाकर बनें सफल इंसान – Take right decision and be successful

Share this:
apnikahaani.blogspot.com

दोस्तों, और मेरे आदरणीय पाठकों, आज के इस post में हम business में सही निर्णय लेकर सफल इंसान बनने के बारे में चर्चा करेंगे, उम्मीद है आप इसे पसंद करंगे।

दोस्तों, business में एक अच्छी planning की जरूरत होती है. परन्तु कई management gurus का यह मानना है कि ‘You Can not Overestimate the need to plan and prepare. You can not over prepare in Business.’ अर्थात पहले से प्लानिंग एवं तैयारी की जरूरत को बिजनेस में बहुत ज्यादा बढ़ा-चढ़ा कर बताने की
आवश्यकता नहीं है. बिजनेस को बहुत ज्यादा Over prepare (जरूरत से अधिक advance planning) करके नहीं चलाया जा सकता है.’

business करना एक fast game खेलने के समान है, जिसमें आपको अपने उद्देश्य और प्रतिद्वंदी खिलाड़ियों की रणनीति के अनुसार अपना खेल खेलना पड़ता है. एक मंझे हुए खिलाड़ी को on the spot कई ऐसे महत्वपूर्ण decision लेने पड़ते हैं, जिनकी कोई advance planning नहीं की जा सकती है.

इसका यह मतलब नहीं है कि advance planning और तैयारियों को नजरअंदाज किया जाना चाहिए. इनकी अपनी एक महत्ता है. परन्तु ये इतनी ज्यादा भी नहीं करनी चाहिए कि वर्तमान परिस्थितियों का आकलन ही ख़त्म हो जाए. business की यात्रा में हर कदम पर नई से नई कठिनाइयां मुंह फाड़े खडी होती है, और साथ ही नए-नए लाभ के रास्ते भी नजर आने लगते हैं. इन सबका पहले से पूर्वानुमान लगाना सम्भव हैं. तीव्र सोच एवं समय रहते निर्णयों से एक company उन क्षेत्रों में तरक्की कर सकती है जिनके बारे में पहले कभी सोचा भी नहीं था.

उदहारण के लिये जापान की Mitsubishi company को ले सकते हैं. इसका प्रारम्भ 1870 में Iwasaki Yataro द्वारा एक shipping company के रूप में किया गया. Mitsubishi दो शब्दों से बना हुआ है – ‘mitsu’ जिसका अर्थ है ‘तीन’ और ‘bishi’ जिसका अर्थ है ‘water chestnut यानी एक पानी का पौधा.

इसने 1881 में परिस्थितियों को देखते हुए coal mining के व्यापार में कदम रखा, इससे इनके shipping business को भी काफी मदद मिली. थोड़े ही समय में Mitsubishi को इस कदर सफलता मिली कि इसने Banking, Insurance, Warehousing, Trade और Technology Products आदि में सफल व्यापार स्थापित किये. इनके द्वारा बनाए गए ‘Zero‘ हवाई जहाज़ों ने Second World War में USA के Pearl Harbor पर जबरदस्त तबाही मचाई. Second World War में हार के बाद Mitsubishi पर प्रतिबन्ध लगा दिए गए और उनकी विकास यात्रा में जबरदस्त रूकावट पैदा हुई. परन्तु इन्होने हार नहीं मानी. नए rules and regulations के अनुसार Mitsubishi ने अपने आपको कई independent companies में विभाजित कर लिया जिनके अपने business models थे, परन्तु सभी अपने products  के लिये Mitsubishi brand name ही उपयोग करते रहे. इनमें से कुछ companies पर ये आरोप भी लगे कि ये अच्छी Corporate practices का पालन नहीं करती. उदहारण के लिये इनके former executive कमल सिन्हा ने एक वेबसाईट ‘Mitsubishi Watch‘ के नाम से आरम्भ कर रखी है, जिसमें इस तरह की practice पर ध्यान आकर्षित किया जाता है. 

परन्तु, इन सारी कठिनाइयों के बावजूद Mitsubishi द्वारा समय रहते किये हुए निर्णयों के कारण अपनी लोकप्रियता कायम रखी.

साभार : एक Facebook मित्र

मित्रों, अपने बहुमूल्य विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से दें! धन्यवाद्! हमारे अन्य हजारों पाठकों की तरह, आप भी हमारे Free Email Newsletter का Subscription ले सकते हैं! यदि आप हमारे ब्लॉग पर दिए हुए जानकारी से संतुष्ट हैं तो आप हमें Facebook पर Like कर सकते हैं और Twitter पर Follow भी कर सकते हैं!

Share this:

One Response

  1. June 13, 2017

Leave a Reply to Jugnu Nagar Cancel reply