बीरबल की योग्यता – Akbar and Birbal – Birbal Ability

Share this:
apnikahaani.com

दोस्तों, बादशाह अकबर के दरबार में नवरत्न बीरबल से जलने वालों की कमी नहीं थी। बादशाह अकबर का साला तो कई बार बीरबल से मात खाने के बाद भी बाज न आता था। बेगम का भाई होने के कारण अक्सर बेगम की ओर से भी बादशाह को दबाव सहना पड़ता था।

ऐसे ही एक बार साले साहब स्वयं को बुद्धिमान बताते हुए दीवान पद की मांग करने लगे। बीरबल अभी दरबार में नहीं आया था। अतः बादशाह अकबर ने साले साहब से कहा – मुझे आज सुबह महल के पीछे से कुत्ते के पिल्ले की आवाजें सुनाई दे रही थीं, शायद कुतिया ने बच्चे दिए हैं। देखकर आओ, फिर बताओ कि यह बात सही है या नहीं ?

साले साहब चले गए, कुछ देर बाद लौटकर बोले – हुजूर आपने सही फरमाया, कुतिया ही ने बच्चे दिए हैं।

अच्छा कितने बच्चे हैं ? बादशाह ने पूछा।

हुजूर वह तो मैंने गिने नहीं। – साले ने कहा

गिनकर आओ – बादशाह ने कहा

साले साहब गए और लौटकर बोले – हुजूर पाँच बच्चे हैं ?

कितने नर हैं और कितने मादा ? बादशाह ने फिर पूछा।

वह तो नहीं देखा – साले ने कहा

जाओ देखकर आओ – बादशाह ने कहा

आदेश पाकर साले साहब फिर गए और लौटकर जवाब दिया – तीन नर और दो मादा हैं हुजूर।

नर पिल्ले किस रंग के हैं ? – बादशाह ने पूछा

हुजूर वह देखकर अभी आता हूं – साले ने कहा

रहने दो और बैठ जाओ – बादशाह ने कहा।

साले साहब बैठ गए। कुछ देर बाद बीरबल दरबार में आया। बादशाह अकबर बोले – बीरबल, आज तुम सुबह महल के पीछे से पिल्लों की आवाजें आ रही हैं, शायद कुतिया ने बच्चे दिए हैं, जाओ देखकर आओ माजरा क्या है !

जी हुजूर – बीरबल चला गया और कुछ देर बाद लौटकर बोला – हुजूर आपने सही फरमाया, कुतिया ने ही बच्चे दिए हैं।

कितने बच्चे हैं ?’

हुजूर पांच बच्चे हैं।

कितने नर हैं और कितने मादा।

हुजूर, तीन नर हैं और दो मादा।

नर किस रंग के हैं ?

दो काले हैं, एक बादामी है।

ठीक है बैठ जाओ।

बादशाह अकबर ने अपने साले की ओर देखा, वह सिर झुकाए चुपचाप बैठा रहा। बादशाह ने उससे पूछा – क्यों तुम अब क्या कहते हो ?

उससे कोई जवाब देते न बना।

मित्रों अपने बहुमूल्य विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से दें! धन्यवाद्!

Share this:

Leave a Reply