हमीं भ्रष्ट हैं सरकार! – We are only corrupted

Share this:

साभार – डॉ .गंगा प्रसाद शर्मा ‘गुणशेखर’

अपनी कहानी की ओर से डॉ .गंगा प्रसाद शर्मा ‘गुणशेखर’ जी को इस रचना को हमारे साथ शेयर करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद्!


हमीं भ्रष्ट हैं सरकार!

आप जो भी फरमा रहे हैं
बिल्कुल ठीक फरमा रहे हैं
बचपन में
अहरे पर रखी दुदहड़ी से मलाई छानी थी
बापू की जेब से दो रुपए निकाले थे
पड़ोसी के खेत से भुट्टा तोड़ा था
कमली के खेत से भर मुट्ठी होरा निकाला था
मेले से कुछ पैसे चुराकर भागे थे

खैर बच गए थे
जैसे-तैसे,आड़े-तिरछे भागभूग के
वरना पकड़े जाते तो तोड़ दी जातीं मेरी दोनों टँगड़ी
स्कूल जाने पर दो रुपए की किताब के
तीन रुपए बताए थे बापू को
पोले की दूकान से मूँगफलियाँ चुरा-चुरा कर
खाया करते थे भीड़ वाले दिनों में

पैसे न होने की मजबूरी
और मास्टर जी की रोज-रोज की मार से तंग आकर
दो रुपए आठ आने की कीमत वाली
एक किताब भी चुराई थी कभी
यह सब करते समय डरा था हर बार
लेकिन उतना नहीं जितना कि अभी-अभी तुम्हरे समझाने के बाद।
‘बापू’ ने तो चोरी-चोरी बीड़ी पी थी
आपने तो वह भी गुनाह नहीं किया सरकार
इसी लिए तो आपके कहते ही मैंने झाँका अपने भी गिरेबान में
और पाया कि असली गुनहगार मैं ही हूँ सरकार!

आपके पास अरबों-खरबों की रकम और
इतनी कम चोरी
ऊपर से बंदरबाँट
फिर भी पैसे-पैसे का सही बँटवारा आपस में
मेरे बापू ने पूरे पाँच सौ मार लिए थे
अपने सगे भाई के
ऐसा कहना है मेरे चाचा का
और चाचा भी कोई कम चोर नहीं थे
पूरे एक तोले सोने की अँगूठी
दे आए थे एक नटन को
यह कहना है मेरी माँ का
हम क्या हमारा पूरा खानदान भ्रष्ट है सरकार!

पर,
मेरी माँ कभी झूठ नहीं बोलती है सरकार!
मुझे तुम भी मेरी माँ जैसे लगे हो अभी- अभी
पर बाप न बन जाना सरकार!
वह जब मारता था तो माँ पानी भी नहीं माँग पाती थी
उलटे झूठ बुलवाती थी हमसब से कि सीढ़यों से गिर पड़ी है
आप भी मेरी माँ जैसी अफ़सरशाही और कानी मौसी जैसी पुलिस से
मारके डर से झूठ कभी न बुलवाना
आपके कपड़ों से तो नहीं लगता कि ऐसा कर सकते हैं

पर,
हम अपनी आदत से मज़बूर जो हैं कि-
हम गंदों को ज़रूरत से ज़्यादा उजलों पर
भरोसा जल्दी नहीं हो पाता है सरकार!
कभी -कभी आपकी ही बात सही लगती है कि –
आप तो दूध से नहाए हुए हैं
पर, हमीं भ्रष्ट हैं सरकार!

अच्छा, अब अलविदा सरकार!

मित्रों अपने बहुमूल्य विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से दें! धन्यवाद्! 

दोस्तों, यदि आप Hindi में कोई Article, Inspirational Story या जानकारी हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-mail करें. हमारी Id है : [email protected] हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ Publish करेंगे. धन्यवाद !

Share this:

Comments(4)

  1. June 29, 2013
  2. June 29, 2013
  3. June 29, 2013
  4. June 29, 2013

Leave a Reply to apnikahaani Cancel reply