सच्चा हीरा अनमोल विचार – True Quality Hindi Story

Share this:
apnikahaani.blogspot.com

दोस्तों, सायंकाल का समय था| सभी पक्षी अपने अपने घोसले में जा रहे थे| तभी गाँव की चार औरतें कुएं पर पानी भरने आई और अपना अपना मटका भरकर बतियाने बैठ गई| पहली औरत बोली – अरे, भगवान मेरे जैसा लड़का सबको दे| उसका कंठ इतना सुरीला है कि सब उसकी आवाज सुनकर मुग्ध हो जाते हैं|

इस पर दूसरी औरत बोली बहनों, मेरा लड़का तो इतना बलवान है कि सब उसे आज के युग का भीम कहते हैं|

तीसरी औरत भी कहाँ चुप रहने वाली थी, वह बोली अरे, मेरा लड़का एक बार जो पढ़ लेता है वह उसको उसी समय कंठस्थ हो जाता है|

सभी की यह सब बातें सुनकर चौथी औरत कुछ नहीं बोली|

इतने में दूसरी औरत ने कहा -अरे बहन, आपका भी तो एक लड़का है ना? आप उसके बारे में कुछ नहीं बोलना चाहती हो? 

इस पर उसने कहा-  मैं क्या कहूँ, वह ना तो बलवान है और ना ही अच्छा गाता है, न ही पढ़ने में तेज़ है| 

यह सुनकर चारो स्त्रियों ने अपने मटके उठाए और अपने गाँव की और चल दीं|

तभी कानों में उनके कुछ सुरीला सा स्वर सुनाई दिया| पहली स्त्री ने कहा- “देखा, मेरा पुत्र आ रहा है| वह कितना सुरीला गाना गा रहा है|” पर ये क्या, उसने अपनी माँ को नहीं देखा और उनके सामने से निकल गया|

अब दूर जाने पर एक बलवान लड़का वहाँ से गुजरा उस पर दूसरी ओरत ने कहा – देखो| मेरा बलिष्ट पुत्र आ रहा है| पर उसने भी अपनी माँ को नहीं देखा और सामने से निकल गया| 

तभी दूर जाकर मंत्रो कि ध्वनि उनके कानो में पड़ी और तीसरी ओरत ने कहा- “देखो| मेरा बुद्धिमान पुत्र आ रहा है” , पर वह भी श्लोक कहते हुए वहाँ से उन दोनों कि तरह निकल गया| 

तभी वहाँ से एक और लड़का निकला जो की उस चौथी स्त्री का पूत्र था|

वह अपनी माता के पास आया और माता के सर पर से पानी का घड़ा ले लिया और गाँव की ओर निकल पड़ा| 

यह देख कर तीनों स्त्रीयां चकित रह गई , मानो उनको सांप सुंघ गया हो| वे तीनों उसको आश्चर्य से देखने लगी, तभी वहाँ पर बैठी एक वृद्ध महिला ने कहा – “देखो, इसको कहते हैं सच्चा हीरा”

दोस्तों इस प्रेरक प्रसंग से हमें यह शिक्षा मिलती है की सबसे पहला और सबसे बड़ा ज्ञान संस्कार का होता है जो किसी और से नहीं बल्कि स्वयं हमारे माता-पिता से प्राप्त होता है, फिर भले ही हमारे माता-पिता शिक्षित हों या ना हों , यह ज्ञान उनके अलावा दुनिया का कोई भी व्यक्ति नहीं दे सकता है|

आप अपने बहुमूल्य विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से हम तक पंहुचाएं|

Share this:

Leave a Reply