हंसी और ठहाके – Laughs and Laughter

Share this:
Picture Courtesy : www.picstopin.com

कोर्ट में केस चल रहा था, केस की सुनवाई शुरू होने लगी तो वकील उठा और जज से बोला।

वकील: “माई लार्ड, कानून की किताब के पेज नंबर 15 के मुताबिक मेरे मुवक्किल को बा-इज्जत बरी किया जाये।


जज: “किताब पेश की जाये।”

किताब पेश की गयी, जज ने पेज नंबर 15 खोला तो उसमें 1000 के 10 नोट थे।

जज मुस्कुराते हुए बोला: “बहुत खूब, इस तरह के 2 सबूत और पेश किये जाये।”

मुर्गियों के फार्म में एक बार निरीक्षण के लिए इंस्पेक्टर आया.”

इंस्पेक्टर: तुम मुर्गियों को क्या खिलाते हो?

पहला मालिक: बाजरा.

इंस्पेक्टर: खराब खाना, इसे गिरफ्तार कर लो.


दूसरा: चावल.

इंस्पेक्टर: गलत खाना इसे भी गिरफ्तार कर लो.

अब पप्पू की बार आई, वह बहुत डर गया था.

फिर पप्पू डरते-डरते बोला-: हम तो जी मुर्गियों को 5-5 रुपए दे देते हैं ..जो तुम्हारी मर्जी है जाकर खा लो ..!!

बेटा: “पापा जैसे आप मुझे मारते हो क्या आपके पापा भी आपको वैसे ही मारते थे?”

बाप: “बिलकुल मारते थे”

बेटा: “और दादा जी के पापा भी दादाजी को ऐसे ही मारते थे ?”

बाप: “बिलकुल ऐसे ही मारते होंगे”

बेटा: “तो फिर ये खानदानी गुंडागर्दी कब ख़त्म होगी?”

कॉलेज में एक लड़की ने दाखिला लिया तो सारे लड़के-लड़कियों ने उसे चिढ़ाने के लिए बुआ कहना शुरू कर दिया।

कुछ दिनों तक तो उस बेचारी ने सहन किया। अंत में उसने तंग आकर प्रिंसिपल से शिकायत की।.

प्रिंसिपल को बड़ा क्रोध आया तो क्लास रूम में पहुंचे और बोले- जो भी इसे बुआ कहता है वह तुरन्त खड़ा हो जाये ।

एक -एक करके सारी क्लास खड़ी हो गयी। केवल पप्पू बैठा रहा।

प्रिंसिपल ने हैरानी के साथ उस पप्पू से पूछा- क्यों भई! तुम इसे बुआ नहीं कहते?

पप्पू ने ठंडी सांस भरकर कहा- सर! मैं इस क्लास का फूफा हूं।

अपने विचार हमें नीचे Comment के माध्यम से दें!
Share this:

One Response

  1. June 12, 2013

Leave a Reply to sanjay Cancel reply